Breaking

बुधवार, 16 दिसंबर 2020

Glass Bridge In India Rajgir में बनकर तैयार नये साल में पर्यटकों के लिए खोला जाएगा 

 

Glass Bridge In India Rajgir

Glass Bridge In India Rajgir


बिहार की ऐतिहासिक और धार्मिक महत्ता में चार चाँद उस वक़्त लग गया जब Glass Bridge In India Rajgir बनकर तैयार हुआ। राजगीर के प्राकृतिक सौंदर्य को दस गुना बढ़ा रहे ये शीशे के पुल बिहार को पर्यटन क्षेत्र में और भी आगे ले जाएगा। बताया जाता है की ये ग्लास ब्रिज चीन के झांगजियाजी शहर की सस्पेंसन ब्रिज से मेल खता है। राजगीर की महत्ता भगवान बुद्ध की साधनाभूमि के रूप में है। पौराणिक कथाओं के अनुसार राजगीर को भगवान बह्मा की पवित्र यज्ञ भूमि के रूप में भी जाना जाता है। पटना से 100 किमी दक्षिण-पूर्व में खूबसूरत पहाड़ियों और घने जंगलों के बीच बसा राजगीर भारत के तीनों प्रमुख धर्म – हिन्दू, बौद्ध और जैन, के लिए महत्वपूर्ण है। एक सुप्रसिद्ध धार्मिक तीर्थस्थल के साथ साथ राजगीर देश की एक विख्यात हेल्थ रेसॉर्ट के रूप में भी लोकप्रिय है। भगवान बुद्ध यहाँ पर कई वर्षों तक ठहरे थे। राजगीर बुद्ध की कई महत्वपूर्ण उपदेशों का साक्षी भी रहा है।

बताया जाता है की राजगीर में जू सफारी पार्क का भ्रमण करने के लिए यह पुल अत्यंत उपयोगी होगा। अगले साल 2021 में Glass Bridge Rajgir Bihar आम लोगों के लिए खोल दिया जाएगा। अब बिहारवासिओं को 2021 का इंतजार है जब वो राजगीर की वादियों में प्रकृति का भरपूर आनंद ले सकेंगे। बताया जा रहा है की इससे इलाके में आर्थिक गतिविधियां बढ़ेगी और अन्य क्षेत्रों का भी विकास होगा। पर्यटन विभाग अपनी इस योजना के तहत कई तरह की तैयारियां कर रहा है और Glass Bridge Rajgir को अंतिम रूप देने में लगा हुआ है. इसके तहत जू सफारी पार्क के अंदर नेचर सफारी पार्क का निर्माण कार्य किया जा रहा है जिसमेें पूर्वोत्तर भारत के पहले ग्लास ब्रिज का निर्माण कार्य कराया गया है।

Glass Bridge Zoo Safari Rajgir :- जू सफारी पार्क में आकर्षित करने वाले दर्शनीय पार्क का निर्माण हो रहा है. दरअसल बिहार का प्राकृतिक सौंदर्य राजगीर में जू सफारी पार्क में नेचर सफारी पार्क, तितली पार्क, आयुर्वेदिक पार्क, विभिन्न प्रजातियों के प्रसिद्ध देशी विदेशी पेड़ पौधे का दीदार करने के लिए अब नये साल में बिहारवासियों को सौगात मिलने वाला हैं। इसके साथ ही राजगीर में करोड़ो रुपये की लागत से ही विश्व शांति स्तुप पर चढ़ने के लिए पुराने रोपवे की जगह नये आठ शीटर बाली रोपवे का भी निर्माण कार्य अंतिम चरण में है। उसे भी फरवरी महीने तक पर्यटकों के लिए खोले जाने की सम्भावना है। कोरोना महामारी के कारण बिहार की पर्यटन व्यवस्था की हालत खस्ती हो चुकी थी और देश विदेश से आने वाले पर्यटक भी कम हो गए थे, ऐसे में अब बिहार का पहला ग्लास ब्रिज बनकर तैयार हो गया है (Glass Bridge Rajgir Location) जो कि राजगीर में स्थित है। यह बिहार के प्राकृतिक सौंदर्य को बिखेरता नजर आ रहा है। देश और बिहार के लोग यहां आकर भ्रमण कर सकते हैं और खूबसूरत प्रकृति का आनंद उठा सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

thanks for visit