Breaking

गुरुवार, 2 जनवरी 2020

लेडी सिंघम बाढ़ एएसपी लिपि सिंह के विदाई समारोह में फरियादियों की आँखें हुई नम...

बाढ़ एएसपी लिपि सिंह विदाई समारोह
बाढ़ एएसपी लिपि सिंह विदाई समारोह
लेडी सिंघम नाम से मशहूर बाढ़ एएसपी लिपि सिंह का नाम सुनते ही अपराधियों के पसीने छूटने लगते हैं। आपको बताते चलें कि एक जनवरी को 22 पुलिस अफसरों का तबादला किया गया था, जिसमें बाढ़ एएसपी लिपि सिंह का नाम भी सामिल था। जिनका तबादला मुंगेर में एसपी पद के रूप में किया गया है। 2 जनवरी को Barh NTPC के मंदिर प्रांगण में विदाई समारोह का आयोजन किया गया। इस समारोह की अध्यक्षता कर रहे अनुमंडल पदाधिकारी सुमित कुमार ने कहा की बाढ़ में पदस्थापना के बाद मैडम ने जिस तरह से अपराधियों पर नकेल कसा है, उससे अपराधी छवि के लोग सुधर गए हैं या फिर अंडरग्राउंड हो गए हैं।

वही इस विदाई समारोह में सैंकड़ों की संख्या में फरयादी भी आये हुए थे, जिसकी समस्याओं को सुनकर मैडम ने कइयों को इंसाफ दिलाया था, और कइयों को इंसाफ दिलाने की बात कही थी। मंच से जब वक्ताओं ने कहा कि मैडम के नेतृत्व में पुलिस द्वारा किया गया कार्रवाई राष्ट्रीय स्तर पर चर्चित रही। उनके इस हौसले की बजह से बाढ़ की जनता उन्हें बेटी की तरह मानती है। और ऐसा लग रहा है कि आज किसी एएसपी की नही बल्कि बाढ़ की बेटी की विदाई हो रही है। इतना सुनते ही महौल इतना गमलीन हो गया कइयों की आँखें नम हो गई। और समारोह में आये फरयादीयों के आँखों में आँसू आ गए।


बक्ताओ ने कहा कि मैडम के पास जाने बाले फरियादी कभी निराश होकर नही लौटे। फरियादियों की समस्या को सुनकर तत्काल संबंधित थाना को कार्रवाई करने का निर्देश देती थी। इसलिए उन्हें कार्यालय में बैठते ही फरियादियों की लाइन लग जाती थी। उनके सरकारी मोबाइल नंबर पर सम्पर्क करके लोग कभी भी पुलिस की मदद ले सकते थे। मैडम एक ऐसी पुलिस अधिकारी है जिन्हें बाढ़ की जनता बर्षो तक याद रखेगें। इस विदाई समारोह में कई थाना के थाना अध्यक्ष, पुलिस और प्रखंड कार्यालय के अधिकारी मौजूद रहे।

1 टिप्पणी:

  1. पुराने और नए चावल के फयदे जानने के लिए निचे लिंक पर क्लिक करे
    https://www.right-india.com/2020/01/advantages-and-disadvantages-of-old-and.html

    जवाब देंहटाएं

thanks for visit