The w3-animate-fading class animates an element in and out (takes about 5 seconds).

Breaking

सोमवार, 30 दिसंबर 2019

अब जो भी सरकारी भवन बनेगा उसमे फर्निशिंग साथ साथ होगा, CM Nitish Kumar...

मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद सभाकक्ष में
मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद सभाकक्ष में
पटना 30 दिसम्बर 2019 : - मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने आज मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद सभाकक्ष में प्लाईवुड , विनियर एवं फर्निचर उद्योग विषय पर आयोजित उद्यमी पंचायत की बैठक की अध्यक्षता की । बैठक को संबोधित करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि आज की इस बैठक में प्लाईवुड , विनियर एवं फर्निचर उद्योग से संबद्ध एवं उद्योग जगत से जुड़े विभिन्न प्रतिनिधियों ने अच्छे विचार एवं सुझाव दिये हैं । इस उद्योग को बढ़ावा देने में जो समस्यायें आ रही है , चाहे वह प्राथमिकता सूची में डालने की बात हो या नई तकनीक के प्रयोग की बात हो एवं अन्य विषयों पर चर्चा की गयी । इन सुझावों के आधार पर बिहार औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन नीति 2016 में कुछ बदलाव लाने की जरूरत है , जिससे राज्य में इन उद्योगों को प्रोत्साहन मिल सके । उन्होंने कहा कि उद्योग क्षेत्र के प्रतिनिधियों की समस्याओं एवं सुझावों पर पदाधिकारियों ने भी अपनी राय रखी है । बैठक में उठाये गये विभिन्न मुद्दों पर मुख्य सचिव के स्तर पर संबद्ध विभिन्न विभागों के अपर मुख्य सचिव / प्रधान सचिव / सचिव इस पर अलग से विचार करेंगे और जरूरत पड़ी तो उद्योग क्षेत्र के प्रतिनिधियों से और विचार - विमर्श करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य का हरित आवरण बढ़ाने के लिये वर्ष 2012 में हरियाली मिशन की स्थापना की गयी , जिसमें कृषि वाणिकी को बढ़ावा देने के लिये जोर दिया गया । 19 करोड़ पौधे लगाये गये।



मुख्यमंत्री ने कहा कि आज की बैठक में प्लाईवुड , विनियर उद्योग को बढ़ावा देने के लिये जो बिन्दु उठाये गये हैं , उस पर तो विचार - विमर्श किया ही जायेगा , साथ ही कागज की उपयोगिता को देखते हुये कागज उद्योग को भी बढ़ावा देने के लिये काम करना होगा । इन उद्योगों को बढ़ावा देने से हरियाली मिशन और कृषि रोड मैप में जो उद्देश्य तय किये गये हैं , उसकी भी पूर्ति होगी । किसानों की आमदनी बढ़ेगी , लोगों को रोजगार मिलेंगे। मुख्य सचिव के स्तर पर जल्द से जल्द एक नीति बना ली जाय । सभी चीजों को समाहित कर बिहार औद्योगिक प्रोत्साहन नीति में क्या - क्या बदलाव किये जा सकते हैं , इस पर जल्द से जल्द काम करना होगा । दूसरे राज्यों में भी इस संबंध में कुछ बेहतर किये गये हैं , उसका भी अध्ययन करा लें और उद्योग प्रतिनिधियों के साथ वहाँ जाकर महत्वपूर्ण जानकारी हासिल करें । उन्होंने कहा कि सरकार ने अब नीति बना दी है कि जो भी सरकारी भवन बनेंगे , उसमें फर्निशिंग साथ - साथ होगा । इस बात पर विचार करने की जरूरत है कि स्पेशिफिक चीजों को छोड़कर कुछ चीजें लोकल स्तर के ही उपयोग करने का प्रोविजन हो , जिससे क्षेत्रीय उद्योगों को बढ़ावा मिल सके । हमलोगों का उद्देश्य है कि राज्य का हरित आवरण बढ़ाने के साथ - साथ किसानों की आमदनी बढ़े । किसान फसल एवं फलों का उत्पादन अधिक से अधिक करें , साथ ही वृक्ष की भी खेती करें । 



उद्यमी पंचायत में उद्योग मंत्री श्री श्याम रजक ने भी अपने विचार रखे । बिहार उद्योग संघ के अध्यक्ष श्री रामलाल खेतान , बिहार चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्रीज के महासचिव श्री अमित मुखर्जी , प्लाईवुड , विनियर एवं फर्निचर उद्योग से जुड़े प्रतिनिधियों - श्री रामविलास शर्मा , श्री दिनेश मिश्रा , श्री आनंद खेमका , श्री अमरेश शर्मा , श्री राजकुमार सोमानी ने भी अपने - अपने सुझाव रखे। बैठक में उप मुख्यमंत्री श्री सुशील कुमार मोदी , ऊर्जा मंत्री श्री विजेंद्र प्रसाद यादव , कृषि मंत्री श्री प्रेम कुमार , मुख्य सचिव श्री दीपक कुमार , पुलिस महानिदेशक श्री गुप्तेश्वर पाण्डेय , अपर मुख्य सचिव गृह एवं सामान्य प्रशासन श्री आमिर सुबहानी , अपर मुख्य सचिव श्रम संसाधन श्री सुधीर कुमार , प्रधान सचिव ऊर्जा श्री प्रत्यय अमृत , प्रधान सचिव वित्त श्री एस0 सिद्धार्थ , मुख्यमंत्री क े प्रधान सचिव श्री चंचल कुमार , प्रधान सचिव पर्यावरण , वन एवं जलवायु परिवर्तन श्री दीपक कुमार सिंह , सचिव , उद्योग श्री नर्मदेश्वर लाल , मुख्यमंत्री के सचिव श्री मनीष कुमार वर्मा , सचिव वाणिज्यकर श्रीमती प्रतिमा एस० वर्मा , मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी श्री गोपाल सिंह सहित अन्य पदाधिकारी एवं उद्योग जगत के अन्य प्रतिनिधिगण उपस्थित थे ।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

thanks for visit