Breaking

मंगलवार, 27 अगस्त 2019

रेलवे स्टेशन पर गाना गाने बाली महिला इस शख्स की बजह से हुई फेमस जानिए क्या है पूरी कहानी...

Ranu mandal , Ranu mondal
रानू मंडल की बदलती जिंदगी का तस्वीर

रेलवे स्टेशन पर गाना गाने बाली महिला इस शख्स की बजह से हुई फेमस जानिए क्या है पूरी कहानी...

आपने रेलवे स्टेशन पर गाना गाने बाली महिला "एक प्यार का नगमा है" का विडियो देखा होगा। पिछले कुछ दिनों पहले खूब वायरल हुआ था। उस विडियो में महिला की आबाज को लोगों ने खूब पसंद किया। दरअसल यह महिला पश्चिम बंगाल के नदिया जिला की रहने वाली है। इस महिला का नाम रानू मंडल है। जो राणा घाट रेलवे स्टेशन पर गाना गाती थी। रेलवे यात्रियों के द्वारा जो पैसे मिलते थे उसी से उसका जीवन यापन होता था। एक बार उनके पड़ोसी ने रानू मंडल का गाना गाते हुए मोबाइल से विडियो बनाकर सोसल मीडिया पर अपलोड कर दिया। लेकिन उस समय रानू मंडल की आबाज उतनी अच्छी नही थी इसलिए वह विडियो वायरल नही हो पाया। जब दूसरी बार "एक प्यार का नगमा है" गाने का विडियो  बनाकर सोसल मीडिया पर अपलोड किया गया तो लोगों ने उस विडियो को खूब पसंद किया। उस गाने का बोल, रानू मंडल की दर्द भरी आबाज और उनकी जिंदगी के पल तीनो एक साथ मेल खा रहा था। जिसे देखने के बाद हर किसी का दिल भावुक हो जाता था। जिसके कारण विडियो शेयर होते चला गया और रानू मंडल फेमस हो गई।

शेयर होते होते जब विडियो बॉलीवुड के पास पहुँचा तो रानू मंडल का मेकप करवाकर एक सिंगिंग रियलिटी शो में गाना गाने का मौका दिया गया। जहाँ रानू मंडल की आवाज का हर कोई दीवाना हो गया। रानू मंडल के बीते दिनों की कहानी सुनने के बाद वहाँ बैठे जजों और दर्शको की आँखें नम हो गई। उस शो में बतौर जज की भूमिका में बैठे म्यूजिक डायरेक्टर हिमेश रेशमिया ने सलमान खान के पिता के कहने पर रानू मंडल को अपने आने वाली फिल्म " हैप्पी हार्डी एंड हीर " के लिए गाना गाने का मौका दिया। सलमान खान ने दरियादिल दिखाते हुए रानू मंडल को 50 लाख रुपये का बंगला गिफ्ट किया। उसके बाद रानू मंडल लाइमलाइट में आ गई। अब तो उन्हें कई फिल्म प्रोडक्शन हाउस से गाना गाने का ऑफर मिल रहा है।

आपको बताते चलें कि रानू मंडल को बचपन से ही गाना गाने का शोक था। उनके घर की आर्थिक स्थिति उतनी अच्छी नही थी इसलिए उन्होंने अपनी इच्छा को दवाये रखा और किसी को नही बताया। लेकिन उन्हें जब भी मौका मिलता गाना गुनगुनाने लगती। खुशी हो या गम हर परिस्थिति में वो गाना गाकर अपने मन को बहलाती थी। वो 20 साल की उम्र में एक क्लब के लिए गाना गाया करती थी। जिससे उनका जीवन यापन होता था। रानू मंडल की शादी मुंबई में रहने वाले बाबुल मंडल से हुई थी। लेकिन कुछ दिनों बाद बाबुल मंडल की मौत हो जाने से रानू मंडल वापस अपने मायके पश्चिम बंगाल आ गई। यहाँ कुछ दिनों तक वो अपनी बेटी के साथ रही लेकिन धीरे धीरे उनकी आर्थिक स्थिति खराब होने लगी तो बेटी ने भी नाता तोड़ दिया। पेट पालने के लिए रानू मंडल राणा घाट रेलवे स्टेशन पर गाना गाने लगी। एक बार उनके पड़ोसी ने रानू मंडल का गाना गाते हुए विडियो सोसल मीडिया पर अपलोड किया था लेकिन उस विडियो में सुर अच्छा नही होने की वजह से विडियो वायरल नही हो पाया। लेकिन दूसरी बार सॉफ्टवेयर इंजीनियर यतेन्द्र चक्रवर्ती ने जब उनका विडियो सोसल मिडिया पर अपलोड किया तो वह वायरल हो गया। और रानू मंडल की जिंदगी ही बदल गई।


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

thanks for visit