The w3-animate-fading class animates an element in and out (takes about 5 seconds).

Breaking

गुरुवार, 13 जून 2019

जेल में नारायण साई से मिले नेताओं का नाम लेकर ट्रैन में खिलौने बेचने बाला अवधेश दुबे।

अवधेश दुबे
अवधेश दुबे

जेल में नारायण साई से मिले नेताओं का नाम लेकर ट्रैन में खिलौने बेचने बाला अवधेश दुबे।


31 मई को सजा काटने और 3500 रुपये जुर्माना भरने के बाद अवधेश दुबे जेल से बाहर आये। आपको बताते चले कि ट्रेन में खिलौने बेचने बाले अवधेश दुबे के पास वेन्डर लाइसेंस नही था। इसलिए पुलिस ने उन्हें ट्रेन से ही आरेस्ट कर लिया था।

कैसे फेमस हुए अवधेश दुबे?

अवधेश दुबे ट्रैन में नेताओं का नाम लेकर खिलौने बेचते थे। उनका बोलने का तरीका, खिलौने बेचने का अंदाज ट्रैन में यात्रा कर रहे लोगो को खूब पसंद आता था। उनके यही तरीके से जरूरत नही रहने पर भी यात्री कुछ न कुछ समान जरूर खरीद लेते थे। साथ ही यात्रा कर रहे यात्रियों का मनोरंजन भी हो जाता था। यात्री उनका विडियो बनाकर सोसल मीडिया पर शेयर करते थे जिसे खूब पसंद किया जाता था। खिलौने बेचते हुए वे मोदी जी के अच्छाइयों के बारे मे बताते थे और राहुल सोनिया का मजाक उड़ाते थे। जिसे लोग पसंद करते थे और उनका विडियो भी शेयर करते थे। इसी बजह से दुबे जी फेमस हो गए।

जेल से निकलने के बाद उन्होंने मीडिया से क्या कहा?

जेल से निकलने के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि जब मुझे मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया था। तब मुझे 3500 रु जुर्माना और 10 दिन की सजा सुनाई गई थी। इसी के भरोसे मैं सजा काट रहा था। तो अचानक से जब सोमवार आया तो मुझे रिहाई मिल गई। जेल से निकलने के बाद पुलिसकर्मी मुझे यहाँ के IPS श्री सतीश शर्मा जी के यहाँ ले गये। शर्मा जी ने मुझसे पूछा क्या क्या हुआ था तो मैने सारी घटना उन्हें बता दिया। फिर उन्होंने कहा कि मेरे लाइक कोई काम हो तो मुझे बताना और उन्होंने अपना नम्बर भी मुझे दिया। पुलिसकर्मियों को उन्होंने स्टेशन तक छोड़ने  को भी कहा और बलसार तक का टिकट भी कटवा दिया। उन्होंने सूरत पुलिस और मोदी जी की तारीफ़ करते हुए कहा कि मुझे बाहर निकालने में शायद इनका भी हाथ है। शायद मैंने विडियो में मोदी जी तारीफ किया था यह भी एक बजह हो सकता है।

किन लोगों की बजह से बाहर निकलने दुबे जी?

उन्होंने बातचीत जारी रखते हुए कहा कि मुझे बाहर निकालने में तीन लोगों का हाथ है। पहला देश के प्रधानमंत्री मोदी, दूसरा सूरत पुलिस और तीसरा मीडिया ग्रुप। मीडिया ग्रुप ने काफी मेहनत किया है मुझे बाहर लाने में। मैं दिल से मीडिया ग्रुप को धन्यवाद करना चाहता हूँ। और देश की जनता ने भी काफी ट्वीट किया रेलमंत्री जी को, मोदी जी को, विजय रूपानी जी को की भाई रोजी रोजगार के लिए सब करते है उन्होने भी वही किया। कोई गलत काम नही किया हैं आप उनको बाहर निकालिए।

जेल में नारायण साई से मिले दुबे जी।

उन्होंने कहा कि जिस जेल में मैं गया था उसी जेल में नारायण साई भी थे, मुझे ऐसा लग रहा था कि नारायण साईं से मेरी मुलाकात होगी और जब शनिवार के दिन कैदी लोगों का मुलाकाती का वक़्त आया तो उसी में नारायण साई भी मिल गए। मैंने उन्हें देखकर दंडवत प्रणाम किया और बोला बाबा मैं आप ही से मिलने आया हूँ जेल में। और बोला बाबा मैं आपको बाहर निकलना चाहता हूँ। तो उन्हें लगा कि अरे बाह बाहर तो बहुत सारे हमारे भक्त है।
यहाँ देखिये JCB की खुदाई बाला विडियो क्यों हुआ था वायरल?

फिर बाबा ने कहा कि मुझे बाहर निकलना चाहते हो तो बाहर जाओ आंदोलन करो, आक्रोश फैलाओ मिडिया का सहारा लो।

फिर मैंने कहा कि बाबा आपके पास बहुत सारे पैसे होंगे सोना चाँदी होगा कहाँ छुपा के रखा है आपने मैं JCB से खुदाई करके निकाल लूँगा। वैसे भी JCB की खुदाई बाला विडियो काफी वायरल हो रहा है।

 लेकिन बाबा बोले मेरे पास कुछ नही है मैं तो फकीर हूँ।

 दुबे जी का इस तरह से बोलने का अंदाज लोगों को बहुत पसंद आता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

thanks for visit