Breaking

शनिवार, 8 जून 2019

गिरफ्तार क्यो हुए थे ट्रैन में राजनेताओं के नाम लेकर खिलौने बेचने बाला अवधेश दुबे?

काल्पनिक चित्र

गिरफ्तार क्यो हुए थे ट्रैन में राजनेताओं के नाम लेकर खिलौने बेचने बाला अवधेश दुबे?


दे दु मैया कौन है बेबी है या बेबा?
अच्छा मोदी जी है 120 का बेचता हुँ 100 के नीचे 99 में भी नही देता हूँ। कैश नही है तो paytm से लेता हूँ।

कुछ याद आया हाँ हाँ वही दुबे जी जिनका ट्रैन पर खिलौने बेचने बाला विडियो वायरल हुआ था। उनको खिलौने बेचने का अपना एक अलग ही अंदाज है। न चाहते हुए भी लोग उनका समान खरीद लेते थे। ऐसी क्या बात है जो न चाहते हुए भी लोग उनका समान खरीद लेते थे। तो आइए उनका समान बेचने के अंदाज के बारे में हम आपको बताते है।

दरअसल उनका बोलने का अंदाज ऐसा है कि लोग मनमोहित हो जाते है। राजनेताओं का नाम लेकर इस तरह से लोगो को अपनी ओर आकर्षित करते थे कि लोग न चाहते हुए भी कुछ न कुछ खरीद ही लेते थे। और साथ ही ट्रेन सफर के दौरान यात्रियों का मनोरंजन भी हो जाता था। तो आइए आपको बताते है कि दुबे जी ने विडियो में क्या क्या बोला था।

पाण्डे जी का बेटा हूँ खिलौने बेचकर जीता हूँ।
बच्चों के लिए इतना नही सोचते है मैया आपका खेलता है तो हमारा खाता है। दुसरो की थाली में चावल लम्बा ही दिखता है ये तो हम भी जानते है। ऐसे ही केजरीवाल के थाली में मोदी दिख रहा था। अब खुद की थाली छीन रही है। आप टेंसन मत लो चाहिए तो नम्बर ले लो फोन पर मिस कॉल देना फोन करके बता दूँगा कहाँ फेकना है। सर आपके है अनमोल रतन तो ले जाइए न साहब देखो ये जेन्स होकर जेंन्स की फिलिंग समझ रहे है। औरत से तो भगवान भी हार गए। खाली मोदी है जो सोनिया से जीते और प्रधानमंत्री बन गए। मैं तो डाऊनलोड हुआ हुँ मैं तो प्ले स्टोर से हूँ।अचानक से बड़ा हो गया। साहब दो संदेश देना चाहता हूँ।

की नेता हो तो हमारे मोदी जैसा 
मुलायम तो तकिया भी होता है
जिओ का डेटा और सोनिया का बेटा
दोनों खाली मनोरंजन के काम आते है।

आजकल के बच्चे पापा बेगैर मम्मी के सामने चुप रहते है। पहले अच्छी क्वालिटी के बच्चे आते थे लालू जी दस दस बारह बारह लेकर निकलते थे। बहुत बहुत धन्यवाद भगवान मेरा भला करें समान चले तो आपका हो फिलहाल मेरा तो हो गया। और साहब क्या चिपकाउ आपको।

इस तरह से बातें बनाकर ट्रेन यात्रियों को मनोरंजन करने बाले अबधेश दुबे को हाल ही में कुछ दिन पहले पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। यदि आप सोच रहे है कि नेताओं के नाम लेने के कारण पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया होगा तो आप बिलकुल गलत है। दरअसल ट्रेन में समान बेचने के लिए वेन्डर लाइसेंस बनाना पड़ता है। लेकिन जिस रूट में अवधेश दुवे सामान बेचते थे उस रूट में लगभग 90% सामान बेचने बालों के पास लाइसेंस नही है। तो जाहिर सी बात है कि अवधेश दुबे के पास भी लाइसेंस नहिये होगा। साथ ही उसका सामान बेचते हुए विडियो भी वायरल हो गया था। तो दुबे जी फेमस हो गए। कुलमिलाकर वेन्डर लाइसेंस नही होने के बजह से पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। फिलहाल वो जुर्माना भरने के बाद बाहर आ चुके है जब मीडिया ने उनसे बात करना चाहा तो उन्होंने बात करने से साफ मना कर दिया और बोले आप ही लोंगो की बजह से पुलिस ने मुझे गिरफ्तार किया है। न मेरा विडियो वायरल होता न ही मैं फेमस होता और न मुझे पुलिस गिरफ्तार करती।

आगे अवधेश दुबे जी के बारे में यदि कोई भी जानकारी मुझे मिलता है जैसे अब वो क्या करेंगे लाइसेंस बनबायेंगे या फिर ट्रैन के अलावा कही और सामान बेचने जायेगे। तो हम आपको जरूर बतायेंगे। वेबसाइट याद रखियेगा bihar patna.com

                    यहाँ देखिए बदला हुआ पटना जंक्शन रेलवे स्टेशन का नया रूप

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

thanks for visit